Tuesday, 31 March 2015

राजेश गर्ग का केजरीवाल को लेकर एक बड़ा खुलासा

अरविंद केजरीवाल के खिलाफ कथित स्टिंग ऑपरेशन का ऑडियो जारी करने वाले पूर्व 'आप' नेता राजेश गर्ग ने एक और बड़ा खुलासा किया है। नए खुलासे में गर्ग ने केजरीवाल पर बड़े संगीन आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि केजरीवाल ने अपने लोगों से अपने ही विधायकों को झूठे फोन कराए और पैसे का लालच दिया। उन्होंने ये भी बताया कि इन सबका आरोप भाजपा नेताओं पर लगाया गया।
कभी अरविंद केजरीवाल के बड़े समर्थक कहे जाने वाले राजेश गर्ग अब उनके ही खिलाफ आरोपों की बौछार कर रहे हैं। गर्ग ने केजरीवाल पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि निजी नंबरों से आप विधायकों को फर्जी फोन कराए गए और 10 करोड़ रुपए का लालच दिया गया।
गर्ग के मुताबिक 49 दिन की 'आप' सरकार गिरने के बाद केजरीवाल ने फिर से सरकार बनाने के लिए अपने ही कई विधायकों को फर्जी फोन कराए और उन्हें करोड़ों रुपये का लालच दिया। गर्ग ने ये भी बताया कि इन सबका आरोप भाजपा नेता अरुण जेटली और नितिन गडकरी पर लगा दिया गया।
गर्ग ने बताया कि सरकार गठन के शुरुआती चरण में उन्हे भी इसी तरह का  एक कॉल आया था। तब कॉल करने वाले ने कहा था कि वह जेटली जी के ऑफिस से बोल रहा है  और  10 करोड़ रुपये का ऑफर भी दिया गया ।  इसी तरह कुछ और विधायकों को भी इसी तरह के कॉल आए थे। राजेश गर्ग ने कहा - मैंने नंबर का स्क्रीनशॉट लेकर पुलिस में शिकायत दर्ज करवा दी। जब जांच के दौरान एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया तब केजरीवाल के पी ए संजय सिंह ने  उन पर शिकायत वापस लेने के लिए दबाव बनाया पूर्व आप नेता ने केजरीवाल का कथित ऑडियो स्टिंग टेप पुलिस को सौंपा था व आप के कई और नेताओं के खिलाफ पुलिस में शिकायत भी की थी।
आप के पूर्व विधायक गर्ग ने आप के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से हुई बातचीत का टेप जारी कर हंगामा खड़ा कर दिया था। टेप में केजरीवाल गर्ग को कांग्रेस विधायकों को आप के पक्ष में तोड़ने की बात कर रहे थे ताकि दिल्ली में दोबारा आप की सरकार बनाई जा सके।
गर्ग ने बताया था कि केजरीवाल, मनीष और संजय कांग्रेस विधायकों को तोड़ना चाहते थे। अपने इस दावे को सच बताते हुए उन्होंने एक संपादित ऑडियो क्लिप भी जारी की, जिसमें दावा किया गया है कि यह आवाज केजरीवाल की है। साथ ही उन्होंने 'आप' के स्वराज को भी खोखला बताया और कहा कि यहां सच बोलने वालों को बागी कहा जाता है, जबकि भ्रष्टाचारियों  को सम्मान दिया जाता है। राजेश ने इस दावे के बाद अपनी जान को भी खतरा बताया।


(नईदुनिया)

No comments:

Post a Comment