Friday, 13 February 2015

RBI की फटकार- क्रेडिट कार्ड बकाया पर कम हो सकता है ब्याज

क्रेडिट कार्ड पर बकाया लोन पर बैंकों को ब्याज दर कम करनी होगी। कस्टमर्स को अभी इस पर बहुत ज्यादा ब्याज देना पड़ता है । रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) की बुधवार को जारी एक रिपोर्ट से इसका संकेत मिला है। इसमें कहा गया है कि क्रेडिट कार्ड पर बकाया रकम पर बहुत अधिक ब्याज वसूला जा रहा है। यह इसी तरह के रिस्क प्रोफाइल वाले दूसरे प्रॉडक्ट्स की तुलना में बहुत ज्यादा है। 

आरबीआई का कहना है, 'क्रेडिट कार्ड बकाया पर वाजिब ब्याज वसूलना चाहिए। इंडियन बैंक्स असोसिएशन इस बारे में बैंकों को डिटेल गाइडलाइंस इश्यू करेगी ।' यह बात रिजर्व बैंक की बैंकिंग ओम्बड्समैन पर 2013-14 की एनुअल रिपोर्ट में लिखी गई है।

बैंक अब तक क्रेडिट कार्ड बकाया पर भारी-भरकम ब्याज को सही ठहराते आए हैं। उनका कहना है कि यह अनसिक्योर्ड लोन होता है। इसमें डिफॉल्ट का रिस्क अधिक है। हालांकि, कंज्यूमर असोसिएशंस इसे बैंकों की ज्यादती बताती आई हैं। 

क्रेडिट कार्ड बकाया पर बैंक 36 पर्सेंट तक ब्याज वसूल रहे हैं, जबकि बेस रेट 10-10.5 पर्सेंट है। फाइनैंशल ईयर 2014 में क्रेडिट कार्ड पर एवरेज मंथली खर्च 12,035 करोड़ रुपये था, जो इस फाइनैंशल ईयर में अप्रैल से अक्टूबर के बीच 15,470 करोड़ रुपये हो गया है। अभी भारत में दो करोड़ क्रेडिट कार्ड यूजर्स हैं। 2013-14 में बैंकिंग ओम्बड्समैन को जितनी शिकायतें मिली थीं, उनमें से 24 पर्सेंट क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और एटीएम कार्ड से जुड़ी थीं। ओम्बड्समैन को कुल 76,573 शिकायतें मिली थीं, जो साल भर पहले से 8.5 पर्सेंट अधिक थीं। कार्ड से जुड़ी करीब 18,474 शिकायतें मिली थीं, जिनमें से 10,714 एटीएम/डेबिट कार्ड से संबंधित थीं।

द्वारा : एनबीटी 

No comments:

Post a Comment