Thursday, 4 December 2014

जन्मदिन

इन्द्र कुमार गुजराल का जन्म 4 दिसम्बर, 1919 मे झेलम में हुआ जो उस समय पंजाब प्रान्त का अविभाजित हिस्सा था। ये 21 अप्रैल, 1997 भारत के बारहवें प्रधानमंत्री बने 19 मार्च, 1998 को कांग्रेस द्वारा समर्थन वापस लिए जाने के बाद उन्हें भी पद छोड़ना पड़ा। इस तरह इन्द्र कुमार गुजराल लगभग एक वर्ष तक भारत के प्रधानमंत्री रहे। श्री गुजराल विदेश नीति के विशेषज्ञ थे, इस कारण इन्होंने पाकिस्तान से सम्बन्ध सुधारने के कूटनीतिक प्रयास किए।

92 साल की उम्र में 30 नवम्बर 2012 को गुड़गांव मे इनका निधन हो गया था ।


आर. वेंकटरमण अथवा रामास्वामी वेंकटरमण का जन्म 4 दिसम्बर, 1910 मे मद्रास मे हुआ था। ये 77 वर्ष की उम्र में, 25 जुलाई, 1987 को भारत के आठवें राष्ट्रपति बने । इसके पूर्व ये उपराष्ट्रपति के पद पर आसीन थे । वेंकटरमण तमिलनाडु की औद्यागिक क्रान्ति के शिल्पकार माने जाते हैं। इन्होंने ही तत्कालीन मुख्यमंत्री के. कामराज को प्रेरित किया था कि उद्योगों का राष्ट्रीयकरण किया जाए, ताकि तमिलनाडु भारत की औद्योगिक हस्ती बन सके। इनके द्वारा लिखी गयी पुस्तक 'माई प्रेसिडेंशियल ईयर्स' मे इन्होंने अपने राष्ट्रपतित्व काल के पाँच वर्ष की घटनाओं का विस्तृत विवरण प्रस्तुत किया है।

27 जनवरी, 2009 को 98 वर्ष की आयु मे इनका निधन हो गया ।


प्रख्यात भौतिक वैज्ञानिक कार्यमाणिवकम श्रीनिवास कृष्णन का जन्म 4 दिसम्बर, 1898 में तमिलनाडु के एक ग्राम में हुआ था। 'मद्रास विश्वविद्यालय' ने इनको 'डी. एस. सी.' की उपाधि प्रदान की थी। भौतिकी की प्रत्येक दिशा - प्रकाशिकी, चुंबकत्व, इलेक्ट्रॉनिकी, ठोस अवस्था भौतिकी तथा विशेषकर धातु भौतिकी पर इन्होंने अनेक खोज की थीं। श्री सी. वी. रमन के साथ 'रमण प्रभाव' की खोज में भी इनका योगदान था।

वर्ष 1940 में श्री कृष्णन 'रॉयल सोसायटी' के सदस्य चुने गए । इसके बाद 1946 में वे 'सर' की उपाधि से विभूषित किए गए। स्वतंत्र भारत सरकार ने उन्हें 'पद्मभूषण' उपाधि प्रदान की । सन 1945-46 में श्रीनिवास कृष्णन 'भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी' के अध्यक्ष चुने गए। 1950 में 'भारतीय विज्ञान कांग्रेस' के भौतिकी विभाग के अध्यक्ष और बाद में संस्था के अध्यक्ष भी चुने गए। ये 'भारतीय परमाणु आयोग' एवं 'भारतीय वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद' के संचालक मंडल के भी सदस्य थे। इन्होंने अनेक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों में भारत का प्रतिनिधित्व किया ।

कार्यमाणिवकम श्रीनिवास कृष्णन का निधन 14 जून, 1961 में हुआ।


मोतीलाल हिंदी सिनेमा के प्रसिद्ध अभिनेता थे। इनका जन्म 4 दिसम्बर, 1910 मे शिमला मे हुआ था । मोतीलाल ने अपने जादू से नायक और चरित्र अभिनेता के रूप में दो दशक तक दर्शकों के दिलों पर राज किया। उनकी प्रमुख फिल्मों मे - परख, वक्त, लीडर, देवदास, जागते रहो आदि हैं । उनको 1957 मे प्रदर्शित फिल्म देवदास और 1961 की फिल्म परख के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के लिए फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार दिया गया था। इन पर फिल्माया गया गाना 'ज़िंदगी ख्वाब है' काफी              मशहूर हुआ।  1965 मे इनकी मृत्यु हो गयी ।


No comments:

Post a Comment