Friday, 7 November 2014

आज हैं इनके जन्मदिन


चंद्रशेखर वेंकट रामन का जन्म तिरुचिरापल्ली शहर में 7 नवम्बर 1888 को हुआ था। रामन संगीत, संस्कृत और विज्ञान के वातावरण में बड़े हुए। वह हर कक्षा मे प्रथम आते थे। रामन ने प्रेसीडेंसी कॉलेज से बी. ए. और फिर एम. ए. में प्रवेश लिया और मुख्य विषय के रूप में भौतिकी को चुना।

रामन प्रभाव की खोज 28 फरवरी 1928 को हुई थी । इसी खोज के लिए 1930 में रामन को भौतिकी का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया और रामन भौतिक विज्ञान में नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले एशिया के पहले व्यक्ति बने। इस महान खोज की याद में 28 फरवरी का दिन हम 'राष्ट्रीय विज्ञान दिवस' के रूप में मनाते हैं। डॉ.रामन का देश-विदेश की प्रख्यात वैज्ञानिक संस्थाओं ने सम्मान किया। भारत सरकार ने 'भारत रत्न' की सर्वोच्च उपाघि देकर सम्मानित किया तथा सोवियत रूस ने उन्हें 1958 में 'लेनिन पुरस्कार' प्रदान किया।

21 नवम्बर 1970 को 82 वर्ष की आयु में डॉ. रामन की मृत्यु हुई।


बिपिन चन्द्र पाल : का जन्म बंगाल में हबीबगंज ज़िले के पोइल गाँव (वर्तमान में बांग्लादेश) में 7 नवम्बर 1858 हुआ था। वे शिक्षक और पत्रकार होने के साथ-साथ एक कुशल वक्ता और लेखक भी थे। विपिन चन्द्र कांग्रेस के क्रान्तिकारी देशभक्तों लाला लाजपत राय, बाल गंगाधर तिलक और विपिन चन्द्र पाल (लाल बाल पाल) की तिकड़ी का हिस्सा थे, जिन्होंने 1905 में बंगाल विभाजन के विरोध में ज़बर्दस्त आंदोलन चलाया था।

वे 'वंदे मातरम्' पत्रिका के संस्थापक थे और एक बड़े समाज सुधारक भी थे। बाल गंगाधर तिलक की गिरफ़्तारी और 1907 में ब्रितानिया हुकूमत द्वारा चलाए गए दमन के समय पाल इंग्लैंण्ड गए। वह वहाँ क्रान्तिकारी विधार धारा वाले 'इंडिया हाउस' से जुड़ गए और 'स्वराज पत्रिका' की शुरुआत की।

विपिनचन्द्र पाल 1922 में राजनीतिक जीवन से अलग हो गए और 20 मई, 1932 में अपने निधन तक राजनीति से अलग ही रहे।


एन.जी. रंगा : भारत के स्वतंत्रता सेनानी, सांसद तथा प्रसिद्ध समाजवादी और कृषक नेता एन.जी. रंगा का जन्म आन्ध्र प्रदेश के गुंटूर ज़िले में 7 नवम्बर, 1900 ई. को हुआ था। इन्होंने किसानों के शोषण के विरूद्ध आवाज़ उठाई तथा उन्हें संगठित किया। एन.जी. रंगा उन चंद नेताओं में से एक थे, जिन्हें कृषि की समस्याओं का गहन ज्ञान था। साथ ही उन्होंने किसानों के भूमि अधिकार के लिए दो दशकों तक कार्य किया। एन.जी. रंगा ने 'कृषिकर लोक पार्टी' के नाम से किसानों की एक पार्टी की स्थापना की थी, जिसका बाद में 1959 मे बनी स्वतंत्र पार्टी में विलय हो गया, जिसके वे संस्थापक सदस्य और अध्यक्ष थे। वे लोकसभा के अध्यक्ष चुने गए और वहाँ अपने दल के नेता रहे। 1973 में उन्होंने ‘स्वतंत्र पार्टी’ छोड़ दी और फिर से कांग्रेस में आ गए।

समाज सुधार के क्षेत्र में भी एन.जी. रंगा अग्रणी रहे। 1923 में उन्होंने अपने घर का कुआँ हरिजनों के लिए खोल दिया। महिलाओं को आगे बढ़ाने का सदा समर्थन करते रहे। आन्ध्र प्रदेश को अलग राज्य बनाने के आन्दोलन के भी वे प्रमुख नेता थे।

एन.जी. रंगा द्वारा किए गए कार्य: उन्होने 1931 ई. में आन्ध्र प्रदेश रैयत सभा की स्थापना की।
किसान कार्यकलापों को प्रशिक्षण देने हटु इन्होंने आन्ध्र प्रदेश के नीदुब्रोलु कस्बे में ‘इण्डियन पेजेण्ट इन्स्टीट्यूट’ की स्थापना की।
स्वतन्त्रता प्राप्ति के पश्चात वे लोक सभा के सदस्य बने तथा लगातार आठ बार लोक सभा के लिए चुने गए, जो कीर्तिमान है।


कमल हसन का जन्म 7 नवंबर 1954 को तमिलनाडु के 'परमकुडी' में हुआ था।

कमल हासन ने अपने सिने कॅरियर की शुरुआत बतौर बाल कलाकार 1960 में प्रदर्शित फ़िल्म 'कलाधुर कमन्ना' से की। जिसके लिए इन्हे राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया । फ़िल्म कलाधुर कमन्ना की सफलता के बाद कमल हसन को 'थयइल्ला पिल्लई' (1961), 'पारथल पसी थीरूम' (1962), 'पथा कन्नीकई' और 'वनामबडी' (1963), जैसी फ़िल्मों में बतौर बाल कलाकार अभिनय करने का मौका मिला।

पिछले चार दशक के लंबे सिने कैरियर में कमल हसन ने कई सुपरहिट फ़िल्मों में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों का दिल जीता। बहुमुखी प्रतिभा के धनी कमल हासन ने न केवल अभिनय की प्रतिभा से बल्कि गायकी, निर्माण, निर्देशक, पटकथा, लेखक, गीतकार, नृत्य, निर्देशन, पटकथा और गीत लेखन तथा नृत्य निर्देशक से भी सिने प्रेमियों को अपना दीवाना बनाया है। क्षेत्रीय फ़िल्मों के साथ ही हिंदी फ़िल्मों में भी अपने अनोखे विषय और प्रस्तुति ने उन्हें 'महानायक' बना दिया। कमल हासन को कई सम्मान भी मिले जिनकी सूची बहुत लंबी है। इन्हें पाँच राष्ट्रीय पुरस्कार, 13 दक्षिण भारतीय फ़िल्मफेयर अवॉर्ड, 2 फ़िल्मफेयर अवॉर्ड, तीन नंदी अवॉर्ड, नौ तमिलनाडु स्टेट नेशनल अवॉर्ड आदि प्रदान किए गए हैं। इन सब के अलावा कमल हसन को भारतीय सरकार द्वारा पद्मश्री भी दिया गया है। कमल द्वारा निर्मित व निर्देशित फ़िल्म विश्वरूप के साउंड इफेक्ट्स ऐसे हैं जो विश्व में पहली बार इस्तेमाल किये गए हैं।

No comments:

Post a Comment