Tuesday, 4 November 2014

अब गूगल पर मिलेगी हिंदी व अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में सामग्री

सर्च इंजिन गूगल ने इंटरनेट पर क्षेत्रीय सामग्री उपलब्ध कराने के लिए एबीपी न्यूज, अमर उजाला व सरकारी एजेंसी सीडैक से हाथ मिलाया है। इसके साथ ही गूगल पर अब हिंदी में भी वायस सर्च की जा सकेगी। कंपनी की आगामी महीनों में यह सेवा तमिल, मराठी व बंगाली सहित अन्य भाषाओं के लिए भी उपलब्ध कराने की योजना है जबकि अंग्रेजी में यह पहले से ही है। गूगल इंडिया के उपाध्यक्ष व प्रबंध निदेशक राजन आनंदन ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि 'भारत में लगभग 20 करोड़ इंटरनेट उपभोक्ता हैं। हर महीने 50 लाख नए उपभोक्ता शामिल होते हैं और इनमें से 100 प्रतिशत मोबाइल उपकरणों के जरिए इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे हैं। इस गति से भारत उपभोक्ताओं की संख्या के लिहाज से अगले 12 महीने में अमेरिका को पीछे छोड़ देगा।' उनके अनुसार ऐसा माना जाता है कि देश में केवल 19.8 करोड़ लोग ही अंग्रेजी में सक्षम हैं और उनमें से ज्यादातर पहले से ही इंटरनेट पर हैं। इसे ध्यान में रखते हुए भारतीय भाषा इंटरनेट एलायंस (आईएलआईए) बनाया गया है। यह समूह ऑनलाइन भारतीय (इंडिक) भाषा सामग्री को बढ़ावा देने को प्रतिबद्ध है।

आईएलआईए को उम्मीद है कि 30 करोड़ भारतीय भाषा-भाषी 2017 तक इंटरनेट पर अति सक्रिय होंगे। सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि 'अगर इंटरनेट भारतीय भाषाओं में उपलब्ध होता है तो इंटरनेट का इस्तेमाल बढ़कर 50 करोड़ तक हो जाएगा और यह संभव है। इससे भारत सरकार के डिजिटल इंडिया पहल के लक्ष्यों को हासिल करने में मदद मिलेगी। इन प्रयासों के तहत गूगल ने एक नई वेबसाइट 'हिंदीवेब' शुरू की है जो कि हिंदी सामग्री ढूंढने में मदद करेगी। गूगल के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (सर्च) अमित सिंघल ने कहा कि 'भारत हमारे लिए महत्वपूर्ण बाजार है और यह बहुत तेजी से बढ़ रहा है। इंटरनेट में सुधार हो रहा है इसलिए ही हम इंटरनेट को एक अरब और लोगों तक ले जाना चाहते हैं।'

No comments:

Post a Comment