Thursday, 20 November 2014

गैस उपभोक्ताओं के लिए जरूरी खबर

गैस उपभोक्ताओं के लिए जरूरी खबर है। उपभोक्ताओं के बैंक खाते में रसोई गैस की सब्सिडी रकम सीधे भेजने की योजना में थोड़ी रुकावट आ गई है। संशोधित डीबीटीएल योजना के तहत बिना आधार कार्ड वाले उपभोक्ताओं के कंज्यूमर नंबर को उनके खाते से लिंक अप करने के लिए कई बैंकों के साफ्टवेयर अभी अपडेट नहीं हैं।

ऐसे में आधार कार्ड न बनवा पाने वाले घरेलू गैस उपभोक्ताओं का कंज्यूमर नंबर उनके बैंक खाते से लिंकअप कराने का कार्य बैंक स्तर पर फिलहाल ठप है। संशोधित डीबीटीएल योजना के लीड डिस्ट्रिक्ट मैनेजर करतार सिंह ने बताया है कि कुछ बैंकों में इस तरह की समस्याएं सामने आई हैं। इसका समाधान तलाशा जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिन उपभोक्ताओं के पास आधार कार्ड नहीं हैं, ऐसे उपभोक्ता गैस एजेंसी में जाकर अपना बैंक खाता नंबर दे सकते हैं। इस प्रक्रिया से भी लिंकेज हो जाएगी।

घरेलू एलपीजी सिलेंडरों पर सब्सिडी पाने के लिए आधार कार्ड न बनवा पाने वाले उपभोक्ताओं को खाता लिंक अप कराते समय 16 की जगह 17 नंबरों का कंज्यूमर नंबर फार्म पर दर्ज करना होगा। इसका पहला नंबर एलपीजी आपूर्ति से जुड़ी तेल कंपनियों के बारे में जानकारी देगा। इसके लिए इंडेन कंपनी के कस्टमरों को अपने 16 नंबर के कंज्यूमर नंबर के आगे 1, एचपी से जुड़े कस्टमरों को 2 और बीपी कंपनी से जुड़े कस्टमरों को 3 का अंक फार्म में दर्ज करना अनिवार्य होगा।

(पीके)

No comments:

Post a Comment